Search This Blog

Monday, February 21, 2011

बेखुदी

खामोश-सी रातों में तन्हाई आकर पसर जाती है,
कई रोज़ से आँखों में नमी-सी उतर आती है |

कुछ देखे- कुछ अनदेखे-से, पलकों में जो क़ैद हैं,
अधूरे ख़्वाबों के दरम्याँ, नींद आकर गुज़र जाती है |

तुमसे पूछे बगैर हमने, दे दिए थे जो तुम्हें,
हर दिशा में उन वादों की आवाजें बिखर जाती हैं |

जब भी बैठी आँखें मूंदे, उनमें तुम्हारा आना हुआ,
मेरे मन की सारी गलियाँ रोशनी से भर जाती हैं |

हर पदचाप, हर आहट पर, चौंक-सी उठती हूँ मैं,
उम्मीद की एक दस्तक और, घर की हर शै सँवर जाती है |

 दुनिया की भीड़ में, जाना-सा एक चेहरा देखा था,
मेरी यादों में अक्सर उसकी तस्वीर-सी उभर आती है |

कई बार सोचती हूँ, कहीं दूर चली जाऊं,
पर, शहर की हर एक डगर तुम्हारे नगर जाती है | 

17 comments:

  1. ''दुनिया की भीड़ में, जाना-सा एक चेहरा देखा था,
    मेरी यादों में अक्सर उसकी तस्वीर-सी उभर आती है |''
    बेहतरीन लाईनें।
    प्‍यार की इंतहा।

    ReplyDelete
  2. अच्छी रचना !!! सहज,सरल और सुंदर... हां 'पदचाप' शब्द जरूर खटक जाता है बीच में..

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना।
    दुनिया की भीड़ में, जाना-सा एक चेहरा देखा था,
    मेरी यादों में अक्सर उसकी तस्वीर-सी उभर आती है |
    यादें तो कभी पीछा नही छोडती। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  4. बेखुदि-ए-इश्क़ मे, हम हदो की सारी दह्लीज़् पार कर गये ।
    अब हाल कुछः यू है, कि आइने मे भी दिखता बस चेहरा तुम्हारा है ॥



    बहुत ही बेहतरीन और romantic.

    ReplyDelete
  5. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 3 - 11 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...

    ReplyDelete
  6. कुछ देखे- कुछ अनदेखे-से, पलकों में जो क़ैद हैं,
    अधूरे ख़्वाबों के दरम्याँ, नींद आकर गुज़र जाती है |

    तुमसे पूछे बगैर हमने, दे दिए थे जो तुम्हें,
    हर दिशा में उन वादों की आवाजें बिखर जाती हैं |

    बहुत सुन्दर !!

    ReplyDelete
  7. शहर की हर एक डगर तुम्हारे नगर जाती है |

    Behtareen...adbhoot...

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  8. हर पदचाप, हर आहट पर, चौंक-सी उठती हूँ मैं,
    उम्मीद की एक दस्तक और, घर की हर शै सँवर जाती है |

    बहुत खूब !

    सादर

    ReplyDelete
  9. जब भी बैठी आँखें मूंदे, उनमें तुम्हारा आना हुआ,
    मेरे मन की सारी गलियाँ रोशनी से भर जाती हैं |
    बेहतरीन

    ReplyDelete
  10. adhure khwabon ke darmiyan need aakar gujar jati hai.. sundar prastuti...

    ReplyDelete
  11. अंतर मन के एहसासों को सटीक शब्द दिए हैं खूबसूरती से.

    ReplyDelete
  12. कुछ देखे- कुछ अनदेखे-से, पलकों में जो क़ैद हैं,
    अधूरे ख़्वाबों के दरम्याँ, नींद आकर गुज़र जाती है |

    खूबसूरत एहसास.

    ReplyDelete
  13. खामोश-सी रातों में तन्हाई आकर पसर जाती है,
    कई रोज़ से आँखों में नमी-सी उतर आती है |
    बेहद भावपूर्ण....

    ReplyDelete
  14. Deep thought.....very nice Ritika :)

    ReplyDelete